सदन में गूंजा भ्रष्टाचार का मुद्दा, पार्षदों ने पहनी जूतों की माला उड़ाई काली पर्चियां

उत्तर प्रदेश, चुनाव उत्सव
कानपुर नगर डेस्क।
कानपुर नगर निगम में सोमवार को सदन की शुरुआत ही हंगामे के साथ थी। सदन में भ्रष्टाचार और कमीशन बाजी का मुद्दा जमकर गूंजा। पार्षदों ने एक स्वर में निगम में भ्रष्टाचार के मुद्दे का विरोध किया और अधिकारियों के रवैये को लेकर भी रोष व्यक्त किया। इसी के साथ हाउस टैक्स से लेकर गंदगी के मुद्दे पर भी पार्षदों ने अपनी बात रखी।
गदियाना मामले में एफआईआर की मांग
सदन की शुरुआत होते ही भाजपा के पार्षद सौरभ देव और नवीन पंडित ने गदियाना में मेयर पर हुए हमले को लेकर निगम की कार्यवाही पर सवाल उठाएं और कहा कि अभी तक उस मामले में एफआईआर न होना निगम का लापरवाही भरा रवैया है। इसी के साथ सभी पार्षदों ने मांग की कि जब तक एफआईआर नहीं होगी तब तक सदन नहीं चलेगा। पार्षदों ने कहा जब निगम की महापौर ही सुरक्षित नहीं है तो पार्षद कैसे सुरक्षित होंगे जिसके बाद तुरंत नगर आयुक्तने एफआईआर करवाने के निर्देश दिए।
पार्षद ने पहनी जूते की माला
सदन में भ्रष्टाचार और कमीशन बाजी को लेकर पहली बार सभी दल एक हो गए। सभी दलों के पार्षदों ने एक स्वर में कहा कि 5 साल में तीन बीत चुके हैं लेकिन अभी तक हम भ्रष्टाचार के चलते काम नहीं करवा सकें। जनता जवाब मांग रही। इसके बीच सपा पार्षद ने जूते की माला पहनकर विरोध दर्ज करवाया। इसी के साथ सभी दल के पार्षद वेल में बैठ गए।
जोन 4 के अधिशासी अभियंता को किया गया पदमुक्त
जोन 4 के पार्षदों ने अधिशासी अभियंता पुनीत ओझा पर भ्रष्टाचार करने का आरोप लगाया। पार्षदों ने कहा कि पुनीत काम की जगह सिर्फ भ्रष्टाचार में लगे हुए हैं। इस दौरान हाजी सुहैल, अर्पित यादव, मोनू गुप्ता समेत कई पार्षदों ने उन्हें हटाने की मांग की। जिसके बाद मेयर ने आयुक्त से तत्काल प्रभाव से पुनीत ओझा को हटाने का निर्देश दिया।
महिला पार्षद ने विधुत यांत्रिक अभियंता को दिखाई चूड़ियां
रोड लाइट के मामले में सभी पार्षदों ने लाइट न होने का मामला उठाया। जिसके बाद विधुत यांत्रिक अभियन्ता आर के पाल सफाई देने आए और भुगतान न होने के चलते कंपनी द्वारा काम रोकने की बात कही थी। इस पर मेयर प्रमिला पांडेय ने उन्हें फटकार लगाई और उनसे लाइट न लगाने का कारण पूछा जिसका वो कोई जवाब नहीं दे सकें। इस दौरान महिला पार्षदों ने आर के पाल को चूड़ियां दिखाते हुए कार्यवाही न करने का आरोप लगाया।
सदन में माइक की गुणवत्ता पर सपा पार्षदों ने उठाये सवाल
सपा के पार्षद अर्पित यादव ने सदन के माइक की गुणवत्ता पर सवालिया निशान उठाते हुए कहा कि लाखों रुपए के खर्च में सदन में माइक लगवाए गए लेकिन शुरुआत से वो ठीक नहीं। जिसके चलते सदन में आए दिन कहा जाता है लेकिन अभी तक ठीक नहीं हुआ। जिसके चलते सपा के पार्षद हाजी सुहैल अपना माइक और साउंड लेकर पहुंचे और उन्होंने विरोध दर्ज करवाते हुए उसी माइक साउंड का उपयोग किया।
 सभी पार्षदों ने उठाया बीट खाली होने का मुद्दा
सदन में कांग्रेस के पार्षद कमल शुक्ल बेबी ने बीट खाली होने का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि एक तरफ जहां स्मार्ट सिटी से लेकर स्वच्छ भारत अभियान चलाए जा रहे हैं वहीं दूसरी ओर बीट खाली होने के चलते गालियां गंदगी से भरी हुई है। इसलिए बीट में कर्मचारी रखे जाएं। इसका सभी पार्षदों ने समर्थन किया और कहा कि जल्द ही इस मामले का निस्तारण किया जाए। वहीं पार्षदों ने कहा कि कई में तो कर्मचारी या मर गए या तो रिटायर भी हो गए लेकिन वहां कोई काम नहीं हो रहा है।
मेरे कार्यकाल में रिटायर और खत्म हुए कर्मचारी की बीट में होगी नियुक्ति
मेयर प्रमिला पांडेय ने कहा कि उनके कार्यकाल में जो भी बीट में सफाई कर्मचारी खत्म हुए है या रिटायर हुए है उनकी जगह वो नियुक्ति करेगी। इसी के साथ उन्होंने जब सवास्थ्य अधिकारी से जब मेयर ने बीट के बारे में जानकारी मांगी तो गलत बताने के चलते मेयर ने कहा कि यह शर्म की बात है कि आपको इसकी जानकारी नहीं है।
मेयर ने सभी पार्षदों को अपनी बात रखने को कहा मेयर ने सदन के दौरान सभी पार्षदों से अपनी बात करने रखने को कहा। इस दौरान कई पार्षद ऐसे थे जिन्होंने सदन में अपनी बात पहली बार रखी। वहीं उन्होंने महिला पार्षदों से भी आगे आकर अपने वार्ड की समस्याओं के बारे में कहने को कहा। जिसमें कई महिला पार्षदों और अन्य पार्षदों ने भी अपने वार्ड में विकास कार्य के उनके बारे में भी चर्चा की।


अपनी राय, लेख और खबरें हमें नीचे कमेंट पेटी या the.journalistss1@gmail.com या व्हाट्सएप 6269177430 के जरिये भेजें. 
फेसबुकट्विटरयूट्यूब  हमसे जुड़ेें

Leave a Reply