कारीगरों ने क्यों कहा कि अब नहीं करेंगे रावण के पुतले का काम…

उत्तर प्रदेश, धर्म-पंचैत

पवन भट्ट, कानपुर।

दशहरा के त्योहार के अवसर पर लोग रावण का पुतला फूंककर असत्य पर सत्य की जीत मानते हैं. लेकिन रावण के पुतले बनाने वाले अब बद से बदतर की स्थिति में आ गए हैं. अनलॉक के बाद धीरे-धीरे काम शुरू होने लगे हैं. लेकिन इन कामगारों की सुध लेने वाला कोई नहीं है. कारीगरों का कहना है कि ऐसी स्थिति पिछले 20 सालों में कभी नहीं देखी गई है. इस बार रावण के पुतले नहीं बिके तो वो दोबारा से बनाना बंद कर देंगे.

32 साल में पहली बार हुआ नुकसान

कारीगर शेरू ने बताया कि वो पिछले 32 साल से रावण का पुतला बना रहे हैं. इस काम से वे अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं. लेकिन इस बार कोरोना के चलते उन्हें बहुत नुकसान हुआ है. उनका कहना है कि पिछले 20 सालों में इस तरह की स्थिति कभी नहीं आई. पहले रावण के पुतले की बहुत मांग थी, लेकिन इस बार लागत निकालना भी बहुत मुश्किल लग रहा है.

5 महीने बाद भी नहीं हो रहा व्यापार

कारीगर सनी ने बताया कि कोरोना के चलते पिछले 5 महीने से वे घर पर बैठे थे. काम ठप होने से वे कारीगर लोग रोटी के मोहताज हो गए. उन्होंने बताया कि पिछले साल 11 दिन पहले से ही रावण की बुकिंग हो गई थी. इस बार रावण दहन के लिए मात्र 2 दिन बचे हैं, फिर भी रावण के पुतले को खरीदने कोई नहीं आया. उनका कहना था कि आने वाले सालों में वे रावण नहीं बनाएंगे, क्योंकि अब लागत निकालना भी मुश्किल हो रहा है.


अपनी राय, लेख और खबरें हमें नीचे कमेंट पेटी या the.journalistss1@gmail.com या व्हाट्सएप 6269177430 के जरिये भेजें. 

फेसबुकट्विटरयूट्यूब  हमसे जुड़ेें

Leave a Reply