राहुल गांधी ने क्यों बीजेपी वालों को कहा, “धर्माध”?

स्वदेश

दिल्ली डेस्क।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने रविवार को नरेंद्र मोदी सरकार में शामिल कुछ लोगों को ‘धर्माध’ करार दिया। राहुल गांधी ने यह टिप्पणी ऐसे समय में की है, जब इसके एक दिन पहले नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी ने केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल के उस बयान पर नाराजगी जाहिर की थी, जिसमें उन्होंने बनर्जी की पेशेवर कुशलता पर सवाल खड़े किए थे।

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, “प्रिय बनर्जी ये धर्माध लोग नफरत में अंधे हो चुके हैं। इन्हें नहीं पता कि पेशेवर कुशलता क्या होती है। यदि आप एक दशक तक भी कोशिश करें तो भी आप इन्हें यह नहीं समझा पाएंगे।”

उन्होंने कहा कि लाखों भारतीयों को आपके काम पर गर्व है।

राहुल गांधी ने कांग्रेस की न्याय योजना को तैयार करने में नोबेल पुरस्कार विजेता के योगदान की प्रशंसा की है, जो 2019 के आम चुनाव में पार्टी की चुनावी घोषणा में शामिल थी।

पीयूष गोयल ने शुक्रवार को कहा था, “अभिजीत बनर्जी ने नोबेल पुरस्कार जीता है, मैं उन्हें बधाई देता हूं। लेकिन आप सभी जानते हैं कि उनकी सोच पूरी तरह वामपंथी है। उन्होंने न्याय योजना बनाई, लेकिन देश के लोगों ने उनकी सोच को नकार दिया।”

बनर्जी ने एक दिन बाद एक समाचार चैनल को दिए गए साक्षात्कार में खुद का बचाव किया और कहा, “मेरी आर्थिक सोच किसी पक्ष विशेष के लिए नहीं है।”


 

अपनी राय, लेख और खबरें हमें नीचे कमेंट पेटी या the.journalistss1@gmail.com या व्हाट्सएप 6269177430 के जरिये भेजें. फेसबुकट्विटरयूट्यूब  हमसे जुड़ेें

Leave a Reply